viry-badhane-ka-tarika

वीर्य पतला होने के कारण और वीर्य बढ़ाने के घरेलू उपाय- Home Remedies to Increase Semen in Hindi

वीर्य पुरुषों में उत्तेजना और स्खलन के समय मूत्रमार्ग (लिंग) से निकलने वाला तरल पदार्थ होता है। वीर्य गाढ़ा सफेद रंग का तरल द्रव होता है लेकिन कुछ कारण की वजह से यह पतला और रंगहीन पानी की तरह दिखने लगता है। इस ब्लॉग में आज हम वीर्य के पतला होने के कारण और वीर्य को गाढ़ा करने के उपाय के बारे में बताएगें। 

वीर्य (semen) में शुक्राणु पाए जाते है पुरुषों में वीर्य का पतला होना शुक्राणुओं की संख्या में कमी का संकेत देता है जिसके कारण पुरुषों को बाँझपन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। पुरुषों के वीर्य में बहुत से शुक्राणु होते है जो महिलाओं को गर्भधारण करने में मदद करते है। 

वीर्य क्या होता है? (What is Semen in Hindi)

वीर्य पुरुषों में सेक्स इच्छा के अंतिम पड़ाव में उत्तेजना और स्खलन के दौरान मूत्रमार्ग से निकलने वाला तरल द्रव्य होता है। यह पुरुषों के यौन ग्रंथियों से स्रावित होता है वीर्य में शुक्राणु की संख्या होती है शुक्राणुओं के अलावा इसमें अन्य प्रोटॉयटिक, एंजाइम्स और फ्रुक्टोज मिलें होते हैं इन सभी के मेल से स्वस्थ वीर्य बनता है और पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ती है।

viry-kya-hota-hai

शुक्राणु की कमी से कारण पुरुष अपने महिला साथी को गर्भ धारण कराने में परेशानी होती है। पुरुषों के वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या सामान्य रूप से 15 मिलियन से 200 मिलियन से अधिक शुक्राणु प्रति मिलीलीटर तक पाए जाते है। यदि एक मिलीलीटर वीर्य में 15 मिलियन से कम शुक्राणु होता है तो पुरुषों में शुक्राणु की संख्या कम होती है।

वीर्य कैसे बनता है? (How is Semen Produced in Hindi)

पुरुषों में वीर्य प्रजनन के लिए बहुत जरुरी होता है इसके बिना शिशु की उत्पत्ति संभव नहीं होती है। बहुत से लोगों के मन में सवाल होता है कि वीर्य कैसे बनता है वीर्य को बनाने वाली ग्रंथि और प्रोस्टेट ग्रंथि से वीर्य बनता है। वीर्य का निर्माण पुरुषों के अंडकोष और अंग के मार्ग में मौजूद प्रोस्टेट यूरेथल और सैमाइनल वैसिकल नामक ग्रंथियों से निकलने वाले तरल द्रव्य से होता है।

वीर्य में लगभग 60 फीसदी सैमाइनल वैसिकल 30 फीसदी प्रोस्ट्रैट ग्रंथि का रिसाव और केवल 10 फीसदी अंडकोष में बने शुक्राणु होते है। पुरुषों के जननांग के नीचे लटकने वाले अंडकोष में वीर्य और शुक्राणु बनते है।

किशोवस्था तक शुक्राणुओं का निर्माण नहीं होता है इसके निर्माण की शुरुआत 11 से 13 साल बीच में होता है और 17-18 साल तक यह प्रक्रिया तेज हो जाती है। अंडकोष से निकलकर शुक्राणु इसके ऊपरी हिस्से में लगभग 1 महीने तक रह सकता है। वीर्य में शुक्राणु की संख्या लाखों मात्रा में होती है शुक्राणु पुरुषों को शिशु प्राप्ति में बहुत मददगार होता है। 

और पढ़ें:- क्या गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित होता है

वीर्य पतला होने के कारण (Causes of Watery Semen in Hindi)

what is semen in hindi

शुक्राणु की संख्या में कमी:- शुक्राणु की संख्या में वीर्य के पतला और कमजोर होने का सबसे बड़ा कारण है इसको ओलिगोस्पर्मिया भी कहते है। वीर्य में शुक्राणुओं की एक सामान्य संख्या पाई जाती है। एक मिली लीटर वीर्य में लगभग 15 करोड़ शुक्राणु पाए जाते है इसके कम होने से वीर्य में शुक्राणु की कमी मानी जाती है। ओलिगोस्पर्मिया होने के निम्नलिखित कारण होते है:- 

  • वैरिकोसेले:- इस बीमारी में अंडकोश और अंडकोष की नसों में सूजन हो जाती है यह पुरुषों की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है इस बीमारी को इलाज से सही किया जा सकता है। 
  • हार्मोन असंतुलन:- पिट्यूटरी ग्रंथि और अंडकोष द्वारा उत्पादित हार्मोन का असंतुलित होना इससे शुक्राणुओं में संख्या में कमी होती है। 
  • ट्यूमर:- अंडकोष सौम्य ट्यूमर शुक्राणु के बनाने की क्षमता को प्रभावित करता है।
  • संक्रमण:- संक्रमण रोग जैसे कि गोनोरिया या अन्य संक्रमण रोग भी प्रजनन अंगों में सूजन का कारण बन सकता है इससे अंडकोष में सूजन बनने की सम्भावना रहती है। 
  • वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या को लाने वाली नलियों में चोट लगने या अन्य कोई रोग भी वीर्य पतला होने का कारण बनता है। 

और पढ़ें:- जानें शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने का उपाय

जस्ता (Zinc) की कमी:- जस्ता (zinc) की कमी के कारण भी वीर्य पतला हो सकता है शरीर में जिंक की कमी वीर्य पतला होने का सबसे प्रमुख कारण होता है। पुरुषों में जस्ता की एक निश्चित मात्रा पाई जाती है। अगर जस्ता एक निश्चित मात्रा से कम हो जाता है तो पुरुषों में शुक्राणु की संख्या में कमी हो जाती है। शुक्राणुओं की कमी को पूरा करने में जिंक सल्फेट का उपयोग करना चाहिए।

शीघ्रपतन की समस्या:- पुरुषों में वीर्य का पतला होने का एक कारण शीघ्रपतन की समस्या भी होती है। कभी कभी फोरप्ले के समय वीर्य बाहर निकल जाता है। इस वीर्य में शुक्राणु होते है इसके कारण भी वीर्य पतला हो सकता है। 

बार-बार स्खलित होना:- कम समय में बार-बार स्खलित होने से भी वीर्य पतला हो जाता है। अगर कोई पुरुष दिन में कई बार हस्तमैथुन करता है तो पहली बार स्खलन के बाद वीर्य की गुणवत्ता कम और पतली होने लगती है वीर्य की गुणवत्ता बार बार हस्तमैथुन करने के बाद कम हो जाती है। 

वीर्य को गाढ़ा करने के घरेलू उपाय और नुस्खे (Home Remedies and Tips for Thickening Semen in Hindi)

viry-patla-hone-ka-karan

पुरुषों में वीर्य का सफ़ेद और गाढ़ा होना एक स्वस्थ वीर्य की निशानी होती है पतला और पानी जैसे वीर्य में शुक्राणु की कमी होती है दुनियाभर में कई पुरुषों में वीर्य के पतला होने की समस्या देखी जाती है। इस समस्या को दूर करने के लिए घरेलू नुस्खे और उपाय को अपनाकर पुरुष आसानी से वीर्य को गाढ़ा कर सकते है वीर्य को गाढ़ा करने के निम्नलिखित उपाय है:-  

रोजाना व्यायाम करें:-

वजन को कम करने वाले व्यायाम को करने से शुक्राणु की संख्या को बढ़ाया जा सकता है। व्यायाम करने से शरीर को फिट रखा जा सकता है और मांसपेशियों को फायदा मिलता है। इससे वीर्य में मौजूद शुक्राणु की संख्या बढ़ती है। व्यायाम हर तरह की सेक्स समस्या को दूर करने का उपचार भी माना जाता है। व्यायाम हर प्रकार की स्वास्थ्य समस्या और यौन रोग को दूर करने का सबसे बेहतर उपाय होता है। 

तनाव को दूर करें:-

किसी भी प्रकार का तनाव शरीर पर बुरा प्रभाव डालता है मानसिक और शारीरिक तनाव के कारण शरीर की मांसपेशियों में थकान रहती है। इससे शरीर की ऊर्जा और ताकत प्रभावित होती है। तनाव के कारण व्यक्ति को थकान और सुस्ती महसूस होती है जिससे पुरुषों की प्रजनन क्षमता पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इस लिए तनाव के कारणों को पहचान कर उनको दूर करने वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करें। जिससे आपका तनाव दूर हो सके और आपका शरीर स्वस्थ बना रहे। 

अश्वगंधा का सेवन करें:-

अश्वगंधा एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधी होती है जिसमें हर तरह की यौन समस्या को दूर करने की शक्ति होती है क्योंकि यह आयुर्वेदिक औषधीय गुणों से भरपूर होता है। अश्वगंधा वीर्य और शुक्राणु की मात्रा को बढ़ाने में मदद करता है यह टेस्टोस्टेरोन और ऊर्जा को बढ़ाने में सबसे ज्यादा मददगार होता है। रोजाना 1 गिलास दूध में आधा चम्मच अश्वगंधा पाउडर मिलाकर दिन में दो बार पियें। इसके लिए एक बार डॉक्टर की परामर्श जरूर लें।

कैल्शियम और विटामिन डी का सेवन करें:-

कैल्शियम और विटामिन डी का सेवन करके पुरुष अपने वीर्य के पतलेपन को दूर कर सकते है और वीर्य को गाढ़ा बना सकते है। कैल्शियम और विटामिन डी वीर्य की मात्रा में वृद्धि करने में मदद करता है तथा शुक्राणु की संख्या को भी बढ़ाता है। इसलिए ज्यादा मात्रा में कैल्शियम और विटामिन डी युक्त चीज़ो का सेवन करना चाहिए। 

वीर्य को गाढ़ा करने वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करें:-

वीर्य को गाढ़ा बनाने वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए खाद्य पदार्थ जैसे:- लहसुन, अनार, केला, ग्रीन टी, नींबू, बादाम, दही, डार्क चॉकलेट, दूध, साबुत अनाज और दालें आदि। इन सभी खाद्य पदार्थ का उपयोग करके पुरुष अपने वीर्य को गाढ़ा बना सकते है और इससे शुक्राणु की संख्या भी बढ़ेगी।

डॉक्टर से परामर्श करें:-

यदि आप वीर्य बढ़ाने की दवा की तलाश कर रहे है तो बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवा का सेवन न करें। अगर आप किसी भी सेक्स समस्या (यौन रोग) को दूर करने के लिए किसी उपाय की तलाश कर रहे है तो केवल आयुर्वेदिक दवा या उपचार का ही सेवन करें। लेकिन किसी भी दवा या उपाय का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें। आप किसी भी सेक्स समस्या का उपाय जानने के लिए हमारे डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *