Shukranuo ki sankhya ko badhane ka tarika

जानें शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने का उपाय

पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी एक चिंता का विषय बन गया है शुक्राणुओं की संख्या का सीधा संबंध पुरुषों में प्रजनन क्षमता से है। शुक्राणुओं की संख्या में कमी का अर्थ है कि संभोग के समय पुरुषों के वीर्य में सामान्य से कम शुक्राणु का होना। जिससे औरतों में गर्भधारण करने में दिक्कत होती है। इस समस्या के कारण लक्षण और उपचार के बारे में जानने के लिए पूरे ब्लॉग को पढ़े-

शुक्राणुओं की संख्या कम होने के कारण पुरुष नपुंसकता से पीड़ित हो सकते है जिसके कारण पुरुषों में बांझपन की समस्या उत्पन्न हो सकती है। शुक्राणुओं की संख्या में कमी होने पर यदि समय पर उचित उपचार कर लिया जाए तो आप अपनी शारीरिक संतुलन और यौन शक्ति को बढ़ा सकते है। यौन रोग और सेक्स संबंधित समस्याओं को दूर करने और शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने के लिए जरूरी है पौष्टिक आहार लेना और अपनी दिनचर्या में कुछ परिवर्तन करने की आवश्यकता होती है। 

शुक्राणु की कमी के लक्षण

शुक्राणु की कमी के लक्षण

शुक्राणु की कमी का सबसे मुख्य लक्षण किसी पुरुष द्वारा अपने साथी को गर्भवती बनाने में असमर्थ होना। इस समस्या का कोई अन्य लक्षण नहीं होता है लेकिन कुछ लक्षण शामिल किया जा सकता है जैसे:-

यौन कार्यो से संबंधित समस्या जैसे:- लो सेक्स ड्राइव (low sex drive) या स्तंभन दोष (Erectile dysfunction)। 

अंडकोष के आसपास सूजन, दर्द और गांठ की उपस्थिति।

चेहरे और शरीर के बालों में कमी होना तथा अन्य हार्मोन असामान्यता के लक्षण इत्यादि। 

शुक्राणु की कमी के कारण

शुक्राणु की कमी के कारण

मोटापा- मोटापा शुक्राणुओं की संख्या को कम करने का सबसे बड़ा कारण होता है क्योंकि अधिक मोटापा पुरुषों के शरीर में हार्मोनल परिवर्तन का कारण बनता है जिसके कारण पुरुषों की प्रजनन क्षमता कमजोर हो जाती है। 

तनाव में रहना- अत्यधिक तनाव में रहने से भी शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ जाती है। ज्यादा तनाव में रहने के कारण शुक्राणु पैदा करने वाले कुछ आवश्यक हार्मोन असंतुलित हो जाते है। शारीरिक और मानसिक तनाव में रहने के कारण भी शुक्राणुओं की संख्या में कमी हो जाती है। 

नींद पूरी न होना- देर रात तक जागने और पूरी नींद न लेने के कारण भी पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ जाती है। 

धूम्रपान और शराब की लत:- जो पुरुष धूम्रपान और शराब का सेवन अत्यधिक करते है उनमें यह समस्या सबसे ज्यादा पाई जाती है। 

भारी धातुओं के संपर्क में आना- सीसा और अन्य भारी धातुओं के सम्पर्क में लम्बे समय तक रहने के कारण प्रजनन क्षमता प्रभावित हो सकती है। 

अत्यधिक दवा का सेवन- ज्यादा दवाइयों का सेवन करना भी प्रजनन क्षमता प्रभावित हो सकता है जिसके कारण पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ जाती है। 

गर्म पानी का उपयोग:- गर्म पानी से नहाने और अत्यधिक टाइट अंडरपैंटस पहनने के कारण भी प्रजनन क्षमता प्रभावित हो सकती है यह आपके शुक्राणुओं की संख्या को प्रभावित कर सकता है।

प्राकृतिक तरीके से शुक्राणुओं की कमी को दूर किया जा सकता है। तो चलिए जानते हैं इन प्राकृतिक उपायों के बारे में−

Sperm count ko badhane ka tarika

पर्याप्त व्यायाम व नींद- शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है की आप रोज व्यायाम करे अधिक वजन वाले लोगो में यह समस्या सबसे ज्यादा होती है इसलिए इसको व्यायाम जरूर करना चाहिए और रात में पूरी नींद लेनी चाहिए क्योंकि इससे शुक्राणुओं की संख्या बढ़ती है।

धूम्रपान छोड़ें- शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने का सबसे अच्छा उपचार यह भी है की धूम्रपान और नशीली चीज़ो का उपयोग न करे क्योंकि धूम्रपान के कारण शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ सकती है इसके साथ ही शराब का सेवन भी नहीं करना चाहिए ताकि शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ सके।

पर्याप्त विटामिन डी लें- विटामिन डी युक्त चीज़ो का सेवन करने से शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाया जा सकता है कैल्शियम की कमी के कारण शुक्राणुओं की संख्या पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है इसलिए लोगो को कैल्शियम व विटामिन डी युक्त चीजों का अधिक सेवन करना चाहिए।

अश्वगंधा का उपयोग- अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक अवयव है जो कई प्रकार के यौन रोगों को ठीक करने में मदद करता है शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने के लिए अश्वगंधा का सेवन करना चाहिए। यदि आप लिंग का आकार बढ़ाना चाहते है तो अश्वगंधा का उपयोग करें क्योंकि अश्वगंधा सबसे उपयोगी अवयव है।

शिलाजीत का उपयोग:- शिलाजीत में काफी मात्रा में एंटी-एजिंग गुण पाया जाता हैं। शिलाजीत का उपयोग करने से शुक्राणुओं की संख्या बढती है शिलाजीत कई यौन रोगों को ठीक करने में मदद करती है।

लहसुन का उपयोग:– लहसुन का उपयोग कई प्रकार के खानो में किया जाता है इसका उपयोग करने से शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाया जा सकता है। इसमें एलिसिन नामक कंम्पाउंड पाया जाता है जो पुरुषों में खून के प्रसार को बढ़ने में मदद करता है शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने के लिए रोजाना दिन में दो बार कुछ हफ्तों तक लहसुन की 4-5 कलियों को चबा कर खाएं। इससे आपके प्रजनन क्षमता में वृद्धि होगी। 

दवाइयों का इस्तेमाल:- कुछ अच्छी तरह के दवाइयों के सेवन से भी शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाया जा सकता है। आयुर्वेदिक दवाइयों से इस समस्या को दूर किया जा सकता है। क्योंकि आयुर्वेदिक दवाई किसी भी बीमारी को जड़ से ख़त्म करने में सबसे मददगार होती है। प्राकृतिक सेक्स पावर कैप्सूल सभी सेक्स समस्या को दूर करने का सबसे अच्छा उपचार है।

प्राकृतिक तरीके से शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने का तरीका

यदि आप किसी भी तरह के सेक्स समस्या का सामना कर रहे है तो आप हमारे जानेमाने और तजुर्बेदार विशेषज्ञों से बात कर के अपने समस्या का उपचार जान सकते है और अपना जीवन सुखी बना सकते है। हमारे विशेषज्ञ 20 साल से लाखों लोगो की सेक्स समस्या जैसे:- नपुंसकता, शीघ्रपतन, स्वपनदोष और यौन रोग का समाधान और इलाज करते आ रहे है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *